Breaking News
Top

वास्तु शास्त्र: घर के पूजा मंदिर में भूलकर भी न रखें ये एक चीज, वरना नहीं होगा सुख-शांति का वास

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 6 2017 1:22PM IST
वास्तु शास्त्र: घर के पूजा मंदिर में भूलकर भी न रखें ये एक चीज, वरना नहीं होगा सुख-शांति का वास

वास्तु शास्त्र में घर का हर कमरा महत्व रखता है। जिस प्रकार वास्तु के अनुसार घर के किचन का स्थान है ठीक उसी प्रकार घर के अन्य हिस्सों का है। जो कोई भी शास्त्रीय नियम का पालन करते हैं वे प्रायः वास्तु के नियमों का भी प्लान करते हैं। इस शास्त्रीय नियमों से घर का पूजा घर भी जुड़ा है।

प्रायः सभी हिन्दू घरों में पूजा का मंदिर रहता ही है जिसमें विभिन्न देवी-देवताओं से संबंधित तस्वीर या मूर्ति लगी रहती है। लोग श्रद्धापूर्वक इन देवी-देवताओं की पूजा और अर्चना करते हैं। लेकिन यदि आप घर के पूजा मंदिर से जुड़ी कुछ शास्त्रीय नियमों का पालन करेंगे तो आपकी आस्था बनी रहेगी। साथ ही आपके ऊपर हमेशा भगवान की कृपा बनी रहेगी।

इसे भी पढ़ें: वास्तु शास्त्र: कछुए वाली अंगूठी पहनने के ये हैं फायदे, पहने हैं तो जरूर जान लें इन बातों को

वास्तु शास्त्र में घर की दिशाओं और कोन से वास्तु जुड़ा है। वास्तु के मुताबिक जिस प्रकार घर का मुख्य दरवाजा, किचन, बेड रूम आदि को वास्तु दोषों से दूर रख जाता है ढीक वैसे ही घर के पूजा मंदिर भी वास्तु दोषों से मुक्त होना चाहिए। घर के इन सभी जगहों में पूजा मंदिर वास्तु दोषों से सबसे अधिक प्रभावित होता है। यदि घर का पूजा मंदिर वास्तु दोषों से प्रभावित है तो इसका बुरा असर घर के सदस्यों पर पड़ता है।

इसे भी पढ़ें: वास्तु शास्त्र: इस दिशा में भूलकर भी न लगाएं 'मनी प्लांट' छिन जाएगा हर सुख

टूटी हुई मूर्ति 

वास्तु के अनुसार घर में भूलकर भी खंडित यानि टूटी हुई मूर्ति नहीं रखना चाहिए। ऐसी मूर्तियाँ रखना घर में नकारात्मक उर्जा को बढ़ाता है। इसके अलावे टूटी हुई मूर्तियों की पूजा करने से भगवान नाराज होते हैं। इसलिए कोशिश करनी चाहिए कि घर में टूटी हुई मूर्ति ना रखें। यदि ऐसा दिख जाए तो तुरंत इसे हटाएं। संभव हो तो इसके बदले कोई नई मूर्ति रखना श्रेयस्कर है।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
vastu shastra ke anusar pooja ghar

-Tags:#Vastu Shastra#Vastu Tips#Vastu Defects#Vastu Defect Remedy
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo