Top

वास्तु शास्त्र: 'ईशान कोण' से जुड़ी इन बातों को भूलकर भी दरकिनार न करें, वरना घर-परिवार में कभी नहीं आएगी खुशियां

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 17 2017 3:44PM IST
वास्तु शास्त्र: 'ईशान कोण' से जुड़ी इन बातों को भूलकर भी दरकिनार न करें,  वरना घर-परिवार में कभी नहीं आएगी खुशियां

वास्तु शास्त्र में ऊर्जा के साथ-साथ दिशाओं की भी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। हर दिशा का अपना-अपना महत्व है और जरा सी भी छेड़छाड़ नकारात्मक फल प्रदान करती है। वास्तु शास्त्र में कुल मिलकर 11 दिशाएँ मानी गई है।

इसी में से एक है ईशान कोण, जिसका वास्तु शास्त्र में बहुत महत्त्व दिया गया है। आज हम आपको इस ईशान कोण से संबंधित कुछ विशेष बातें बता रहे हैं। वास्तु के अनुसार ईशान कोण को व्यवस्थित किया जाए तो यह घर-परिवार में खुशियां लाती है।

ईशान कोण का संबंध सीधा ईश्वर से है इसलिए घर के इस कोण की पवित्रता का पूरा-पूरा ध्यान रखा जाना चाहिए। साथ ही ईशान कोण में गंदगी और कबाड़ के अंबार को भूलकर भी नहीं लगाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: वास्तु शास्त्र: अकाल मृत्यु का कारण बन सकता है, घर की इस दिशा में लगा 'घड़ी और कैलेंडर'

  • ईशान कोण में किसी भी प्रकार का झाड़ू नहीं रखना चाहिए। इसके अलावा घर बनवाते समय इस कोण में बाथरूम नहीं हो इसका विशेष ध्यान रखें। यदि अप ऐसा करते हैं तो घर में झगड़ा और क्लेश की स्थिति बनी रहेगी। 
  • जिन घरों में ईशान कोण दूषित होता है वहां कभी भी सुख-समृद्धि का वातावरण नहीं होता है। घर के लोगों का चरित्र अच्छा नहीं होता और उस घर के सदस्यों को लंबी बीमारियों का सामना करना पड़ता है।

इसे भी पढ़ें: वास्तु शास्त्र: घर के पूजा मंदिर में भूलकर भी न रखें ये एक चीज, वरना नहीं होगा सुख-शांति का वास

  • ईशान कोण में गड्ढा का होना भी नकारात्मक उर्जा पैदा करता है। साथ ही इस कोण में रसोईघर का होना भी दरिद्रता को आमंत्रण देता है।
  • ईशान कोण में किसी भी प्रकार की फैक्ट्री होना बहुत उपयोगी माना गया है लेकिन इस दिशा में ट्रांसफार्मर, भट्टी या जनरेटर बिल्कुल ना रखें।
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo