Breaking News
Top

शिवलिंग की पूजा करने से कुंवारी लड़कियों को क्यों रोका जाता है

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 31 2017 11:16AM IST
शिवलिंग की पूजा करने से कुंवारी लड़कियों को क्यों रोका जाता है

हिंदू धर्म में शिवलिंग की पूजा का विशेष महत्व है, लेकिन मान्यता है कि कुंवारी कन्याओं को शिवलिंग की पूजा नहीं करनी चाहिए। इसके कई कारण गिनाए जाते हैं। डालते हैं एक नजर अहम वजहों पर: 

कन्याओं को शिवलिंग पूजा से दूर रखने की एक वजह यह भी है कि शिवलिंग योनि का प्रतिनिधित्व करता है, जो देवी शक्ति का प्रतीक है। शिवपुराण में इसे ज्योति का प्रतीक भी माना गया है। इस रूप में भगवान शिव तपस्या में लीन रहते हैं।

इसे भी पढ़े: जानिए शिवलिंग पर जल चढ़ाने के फायदे

किंवदंतियों की मानें तो कुंवारी कन्याओं को शिवलिंग के नजदीक जाने की भी अनुमति नहीं है। अविवाहिता को शिवलिंग की परिक्रमा भी नहीं करनी चाहिए। मान्यता है कि ऐसा इसलिए नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे भगवान शिव की साधना भंग हो सकती है। 

देवों के देव महादेव की तपस्या भंग न हो जाए, इसलिए कन्याओं को शिवलिंग से दूर रखा जाता है। धार्मिक ग्रंथों में मान्यता है कि शिव की समाधि भंग हो जाए तो शिव को शांत करना आसान नहीं है।

इसे भी पढ़े: 27 देवों का आशीर्वाद दिलाती है शिवलिंग पर बनी सफेद धार

हिंदू धर्म शास्त्रों में शिवलिंग की पूजा करने का विशेष विधि विधान है। इसके लिए खास नियमों का पालन किया जाता है। तभी शिव की अनुकंपा हम पर होती है। यही वजह है कि कुंवारी कन्याओं को शिवलिंग की पूजा से दूर रखा जाता है। 

लेकिन शिवलिंग की पूजा से वंचित कन्याएं भगवान शिव की आराधना जरूर कर करती हैं। अपने लिए वे विधि-विधान से शिव जी के सोमवार का व्रत रख सकती हैं। मान्यता है कि मनुष्य ही नहीं, देवता और अप्सराएं भी भगवान शिव की पूजा बेहद सावधानी से करती हैं।

 

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
unmarried girls should avoid shivling worship here are reasons

-Tags:#shivling#shivling worship#shiv puran#shiv chalisa#

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo