Hari Bhoomi Logo
गुरुवार, सितम्बर 21, 2017  
Breaking News
Top

इन सात सुख के आधार पर ही सुखी जीवन की कल्पना की जा सकती है

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 3 2017 11:51AM IST
इन सात सुख के आधार पर ही सुखी जीवन की कल्पना की जा सकती है

सुख की कामना तो सब करते है और इस सुख की प्राप्ति के लिए लोग दिन रात एक कर देते हैं। अक्सर लोग सात सुख के बारे में चर्चा तो करते हैं लेकिन वाकई वो सात सुख क्या है इसको लेकर जानने की इच्छा रखते हैं। आज हम आपको वो सात सुख के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी सब कामना करते हैं।  

इसे भी पढ़ें: गणेश चतुर्थी: ये है गणपति विसर्जन का शुभ मुहूर्त

एक कहावत है जो अक्सर सुनने को मिल जाती है, आपने भी बहुत बार सुनी होगी "पहला सुख निरोगी काया"। इसके अलावा ये भी कहा जाता रहा है कि सातों सुख हर किसी को नहीं मिलते। 
 
हमारे पूर्वजों ने दूसरा सुख बताया है "माया" यानि धन संपत्ति। पास में धन संपत्ति हो और पहला सुख भरपूर हो तो जीवन काफी आनंदमय हो जाता है। तीसरा सुख है गुणवान, संस्कारी जीवनसाथी। और चौथा सुख बताया गया है आज्ञाकारी संतान।
पांचवां सुख बताया गया है स्वदेश में निवास। यहां स्वदेश का मेरे विचार से ये अर्थ है कि स्वदेश यानि वो स्थान जहां हमारे पुरखे रहते थे। इसके बाद छठा सुख की बात अपने शास्त्रों में कही गई है। छठे सुख में बताया गया है की आदमी राज करे । उसके पास राज के जैसी शक्तियां हो । जो आज के समय में शायद ही किसी के पास है।
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
this is the seven pleasures which everybody adopt in his life

-Tags:#Seven Pleasures#Healthy Body#Maya#Good Partner
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo