Breaking News
Top

ये है पूजा-पाठ करने का सही तरीका, अबतक आप कर रहे थे गलती

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 2 2017 2:27PM IST
ये है पूजा-पाठ करने का सही तरीका, अबतक आप कर रहे थे गलती

आज-कल लोग पूजा-पाठ तो करते हैं लेकिन उन्हें पूजा पाठ के बाद जो फल मिलना चाहिए वह नहीं मिलता है। कर्मकांड के अनुसार पूजा-पाठ पूरी तरह सही विधि से होता है तब उसका लाभ हमें दिखने लगता है।

फिर जब हम विधिवत पूजा नहीं करते है तो उसका उल्टा असर हमारे जीवन पर पड़ता है। हम आपको बता रहे हैं कि कौन-कौन सी ऐसी विधि है। जिसको अपनाने से हमारे पूजा करने का फल अच्छा होता है। 

इसे भी पढ़ें: घर के मंदिर में इन कामों को करना माना जाता है पाप

पूजा के लिए सबसे पहले हमें यह जानना चाहिए कि सबसे उत्तम दिशा कौन सी है। भगवान की मूर्ति को अपने घर में ईशान कोण यानि पूर्व और उत्तर दिशा में विराजमान करना चाहिए, और उसी दिशा में बैठकर पूजा करना चाहिए।

बैठने के लिए कुश के आसन का प्रयोग करना चाहिए। यदि कुश का आसन नहीं उपलब्ध हो तो कंबल के आसन का भी प्रयोग कर सकते हैं। पूजा के दौरान अपनी दाईं ओर तेल के दीपक को रखना चाहिए और बाईं ओर घी के दीपक को रखना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: जानिए क्यों किया जाता है अक्षत का इस्तेमाल

इसके अलावे जब हम पूजा के बाद देवी-देवताओं को चंदन लगते हैं तो ध्यान रहे कि अपने दाएं हाथ की अनामिका अंगुली से ही चंदन लगाएं। और एक बात ध्यान रखना ये है कि कभी भी किसी मूर्ति से सिंदूर लगाकर अपने माथे पर नहीं लगाएं। 

भगवान की आरती करते वक्त कभी भी एक दीपक से दूसरा दीपक और कपूर नहीं जलाना चाहिए। यदि पूजा के दौरान कोई चीज चढ़ाने के लिए रह जाए तो परेशान होने की जरुरत नहीं है। बाद आप चावल और फूल चढ़ाकर मन में उस चीज का ध्यान कर सकते हैं।  

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
this is the right way to worship you were doing so wrong

-Tags:#Karmakand#Worship Methods#Worship-Lessons#Goddess-Gods#Sandalwood#Ishan Kona
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo