Breaking News
Top

जानिए गणेश विसर्जन का महत्व

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 3 2017 12:51PM IST
जानिए गणेश विसर्जन का महत्व

देश इस वक्त गणेश उत्सव में डूबा हुआ है, 25 अगस्त से शुरू हुए इस गणेश उत्सव का विसर्जन 5 सितंबर को होने जा रहा है। जानकारी हो कि चतुर्थी से शुरू हुआ गणेश उत्सव अनंत चतुर्दशी के दिन ही खत्म होता है।ऐसी मान्यता है कि इस दिन तक गणेश जी की प्रतिमा का विसर्जन किसी भी सूरत  में हो जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: गणेश चतुर्थी: ये है गणपति विसर्जन का शुभ मुहूर्त

'विसर्जन' का अर्थ होता है कि 'पानी में विलीन कर देना', यह सम्मान सूचक शब्द है। इसलिए घर में पूजा के लिए प्रयोग की गई मूर्तियों को विसर्जित करके उन्हें सम्मान दिया जाता है।
 
इसे भी पढ़ें: इसलिए होती है लाल बाग के राजा के दर्शन के लिए भक्तों में मारा-मारी
 
गणेश 'विसर्जन' हमें यह सीख देता है कि इस मिट्टी के शरीर को एक दिन मिट्टी में ही मिलना है। गणेश जी की प्रतिमा मिट्टी से बनती है और पूजा के बाद वो मिट्टी में मिल जाती है। मिट्टी प्रकृति की देन है लेकिन जब गणेश जी पानी में विलीन होते हैं तो मिट्टी फिर प्रकृति में ही मिल जाती है।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
this is the importance of ganesh immersion

-Tags:#Ganesh Utsav#Anant Chaturdashi#Ganesh Chaturthi#Ganesh Visarjan

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo