Breaking News
रिपोर्ट में हुआ खुलासा, कानपुर सेंट्रल ने देश के सबसे गंदे रेलवे स्टेशन में किया टॅाप, यहां देखे पूरी लिस्टकिम जोंग ने दूसरी बार दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति से की मुलाकात, ट्रंप के साथ 12 जून की मुलाकात संभवशर्मनाकः दिल्ली से सटे गुरुग्राम में ऑटो चालक ने अपने साथियों के साथ मिलकर गर्भवती महिला के साथ किया गैंगरेपभारतीय महिला की मौत के बाद आयरलैंड में हटा गर्भपात से बैन, सविता की मौत के बाद जनमत संग्रह से हुआ फैसलापीएम मोदी ने किया ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन14वें दिन भी बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में 78 तो मुंबई में 86 के पार पहुंचे पेट्रोल के दामनीतीश कुमारः बैंकों की लचर कार्यप्रणाली के चलते लोगों को नहीं मिला नोटबंदी का अपेक्षित लाभपीएम मोदी ने किया दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का उद्घाटन
Top

श्राद्ध 2017: जानिए पितृ पक्ष का महत्व

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 6 2017 11:45AM IST
श्राद्ध 2017: जानिए पितृ पक्ष का महत्व

हिन्दू धर्म में तीन प्रकार के ऋण के बारे में बताया गया है, देव ऋण, ऋषि ऋण और पितृ ऋण। इन तीनों ऋण में पितृ पक्ष या श्राद्ध का महत्व इसलिए है क्यों की पितृ ऋण सबसे बड़ा ऋण माना गया है। शास्त्रों में पितृ ऋण से मुक्ति के लिए यानि श्राद्ध कर्म का वर्णन किया गया है।

हर साल भद्रपद शुक्लपक्ष पूर्णिमा से लेकर अश्विन कृष्णपक्ष अमावस्या तक के काल को पितृपक्ष या श्राद्ध पक्ष कहा जाता है। पितृपक्ष या श्राद्ध के अंतिम दिन को सर्वपितृ अमावस्या या महालया अमावस्या के रूप में जाना जाता है। 

इसे भी पढ़ें: पितृपक्ष 2017: में ना करें ये गलती वरना भोगना पड़ेगा नरक

महालया अमावस्या पितृपक्ष या श्राद्ध का सबसे महत्वपूर्ण दिन होता है। जिन लोगों को अपने पूर्वजों का सही पुण्यतिथि पता नहीं रहता है। वो इस दिन उन्हें श्रद्धांजलि और पिंडदान करते हैं। पितरों की तृप्ति के लिए श्रद्धा से किया गया तर्पण या पिंडदान यानि पिंड के रूप में पितरों को दिया गया भोजन और जल आदि को ही श्राद्ध कहा जाता है। 

शास्त्रों के अनुसार पितृपक्ष या श्राद्ध में तर्पण और श्राद्ध करने से व्यक्ति को अपने पूर्वजों का आशीर्वाद प्राप्त होता है। जिससे घर में सुख शांति और समृद्धि बनी रहती है। मान्यता है कि अगर पितर रुष्ट हो जाता है तो व्यक्ति को जीवन में बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। पितरों की अशांति के कारण धन हानि और संतान पक्ष से भी समस्यओं का सामना करना पड़ता है। 

इसे भी पढ़ें: पितृपक्ष 2017: इस साल 15 नहीं 14 दिन ही कर पाएंगे पितृपक्ष श्राद्ध

यमराज हर साल पितृपक्ष या श्राद्ध में सभी जीवों को मुक्त कर देते हैं, जिससे वो अपने लोगों के पास जाकर तर्पण यानि भोजन, जल आदि ग्रहण कर सकें। शास्त्रों के अनुसार पितर ही अपने कुल की रक्षा करते हैं श्राद्ध को तीन पीढ़ियों तक करने का विधान बताया गया है।

तीन पूर्वजों में वसु को पिता के समान, रूद्र को दादा के समान और और आदित्य देव को परदादा के समान माना जाता है। पितृपक्ष या श्राद्ध के समय यही तीन पूर्वज अन्य पूर्वजों का प्रतिनिधित्व करते हैं।  

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo