Top

शिव मंदिर में इस समय चाहकर भी न बजाएं ताली, हो सकते हैं बर्बाद

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Dec 4 2017 4:40PM IST
शिव मंदिर में इस समय चाहकर भी न बजाएं ताली, हो सकते हैं बर्बाद

शास्त्रों के अनुसार पूजा-आरती के समय ताली बजाना अच्छा माना गया है। ऐसी मान्यता है कि आरती के दौरान ताली बजाने से हाथ की बुरी रेखाएं मिट जाती है। साथ ही अच्छी रेखाओं का निर्माण होता है। जो कोई भी विधि-विधान से पूजा करते हैं, वे शायद जानते हैं कि पूजा के दौरान मनोकामना पूर्ति के लिए ताली बजाना विशेष महत्व रखता है।

विशेषतौर पर भगवान शिव की पूजा में जलाभिषेक के बाद ताली बजाई जाती है। ऐसी मान्यता है कि शिव की पूजा में ताली बजाने से महादेव भक्तों की मोनोकमना पूरी करते हैं। संभवतः बहुत कम लोग इस बात को जानते होंगे कि कुछ विशेष समय शिव मंदिर में पूजा करते हुए कभी भी ताली नहीं बजानी चाहिए। क्योंकि इस समय ताली बजाने हो सकता है कि आप पर मुसीबतों की सुनामी आ जाए।

इसे भी पढ़ें: इन 3 वास्तु दोषों को भूलकर भी न करें नजरअंदाज, वरना 'रोग' और 'कलह' कभी नहीं छोड़ेगा पीछा

क्यों नहीं बजाएं ताली 

शास्त्रों के अनुसार शिव मंदिर में हर बार पूजा के बाद ताली बजाना नुकसानदेह हो सकता है। इसके पीछे कारण यह है कि भगवान शिव ध्यान में लीन रहते हैं। ताली बजाने से उनका ध्यान भंग होता है।

इसे भी पढ़ें: ज्योतिष शास्त्र: ये है सबसे बुद्धिमान राशि, क्या आप हैं इसमें

जिस कारण शिव के गण रुष्ट हो जाते हैं और व्यक्ति कि दंड स्वरुप मुसीबतों का सामना करना पड़ता है। इसलिए ऐसा वर्णन मिलता है कि शिव मंदिर में केवल संध्या काल की आरती के समय ही ताली बजानी चाहिए।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo