Top

शनि अमावस्या: इस शुभ मुहूर्त में करें ये खास प्रयोग, बरसेगी महालक्ष्मी की कृपा

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 18 2017 11:03AM IST
शनि अमावस्या: इस शुभ मुहूर्त में करें ये खास प्रयोग, बरसेगी महालक्ष्मी की कृपा

शनि अमावस्या वह दिन होता है जब शनि और सभी प्रकार के दोषों से मुक्ति पाने का योग बनता है। शनि अमावस्या के दिन किए गए प्रयोग जल्द असर दिखाते हैं। इस साल का सबसे शुभ अमावस्या 18 नवंबर को पड़ रहा है। इस दिन सुबह और शाम दो ऐसे खास मुहूर्त हैं जिसमें यदि आप 5 मिठाइयों वाला यह उपाय करें तो आपकी सभी समस्या दूर हो सकती है। 

सुबह का प्रयोग 

इस दिन ब्रह्म मुहूर्त (सूर्योदय से पहले) में जागें। फिर स्नान-ध्यान कर नियमित पूजा और ध्यान करें। इसके बाद किसी पात्र में जल भरकर उसमें काला तिल और गुड़ डालकर पीपल की जड़ में अर्पित करें। साथ ही पीपल के जड़ में सरसों के तेल का दो दीया जलाएं। इसके बाद अपनी मनोकामनाओं को मन ही मन दुहराते हुए इस पेड़ की 7 बार परिक्रमा करें।

इसे भी पढ़ें: शनि अमावस्य: बन रहा है विशेष संयोग, सभी शनि दोषों से मुक्ति दिलाएगा केवल यह ज्योतिषीय उपाय

शाम का प्रयोग 

शनि अमावस्या की शाम की शाम 5 बजे से 7 बजकर 24 मिनट के बीच सिद्ध योग है। इस योग में आपको ये उपाय करना है। इसके लिए आपको आधा दूध और आधा पानी से भरा स्टील का लोटा, शहद, गुड़ या चीनी में कोई भी एक चीज उसमें थोड़ी मात्रा में डालें, एक चम्मच काला तिल, लोहे या नाव की कील या घोड़े की नाल से बना छल्ला रखना है। 

खास प्रयोग 

शनि मंदिर में पीपल के नीचे जड़ के पास छल्ला रखें। इसके ऊपर अपने पत्र का जल चढाएं। अब पीपल के गिरे हुए 5 पत्ते लेकर हाथों से या पानी से साफ करें। उस पर 5 अलग-अलग प्रकार की मिठाइयां रखें। इसके बाद कम से कम दो तेल के दिए जलाएं। अब पत्ते समेत मिठाइयां अर्पित करें। सभी पत्तों के पास धूप भी जलाएं। अब पीपल की 7 परिक्रमा करें। परिक्रमा के बाद जड़ की मिट्टी तिलक की तरह अपने माथे पर लगाएं। आखिर में सरसों या तिल के तेल का दीपक जलाकर छोड़ दें और बिना पीछे मुड़े वहां से चले जाएं। ऐसा करने से आपको शनि के साभी दोषों से मुक्ति मिलती है। साथ ही जीवन की सभी समस्या दूर होकर आर्थिक समृद्धि आती है।

इसे भी पढ़ें: शनि अमावस्या कल, पितृ दोष और काल सर्प दोष से मुक्ति के लिए अवश्य करें ये उपाय

धन वृद्धि के लिए 

सुबह या शाम के प्रयोग के बीच किसी समय शनि चालीसा का पाठ करना श्रेयष्कर होगा। साथ ही धन संबंधी समस्या दूर करने के लिए इस मंत्र 'ऊं धनदाय नम:' 'ऊं मन्दाय नम:' 'ऊं मन्दचेष्टाय नम:' 'ऊं क्रूराय नम:' 'ऊं भानुपुत्राय नम:' का 11, 21 या 108 बार जाप कर सकते हैं।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo