Breaking News
Top

''राहु'' की भयानक दशा को भी नाश करता है ये शास्त्रीय उपाय, बेहद प्रभावशाली है ये मंत्र

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 7 2017 12:38PM IST
''राहु'' की भयानक दशा को भी नाश करता है ये शास्त्रीय उपाय, बेहद प्रभावशाली है ये मंत्र

राहु की टेढ़ी दृष्टि या अशुभ स्थिति इंसान को संकटों के मझधार में खड़ा कर देता है। राहु की दृष्टि जब किसी व्यक्ति पर पड़ती है तो वह कहीं का नहीं रहता है। उसकी विवेक और बुद्धि विवेक दोनों भ्रष्ट हो जाती है।

इसलिए खुद व्यक्ति उल्टा निर्णय लेने लगता है परिणाम यह होता है कि व्यक्ति खुद से अपना नाश कर बैठता है। इसलिए जातक या उसके परिजनों को चाहिए कि उसे अधिक से अधिक अवलंबन करें। इसके अलावे राहु के अशुभ दशा आने से पहले उससे बचने का निवारण करें। आज हम आपको राहु की क्रूर दृष्टि से बचने के शास्त्रीय उपायों के बारे में बता रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: 9 नवंबर को बन रहा है शक्तिशाली 'गुरु-पुष्य' योग, राशि के अनुसार करें ये उपाय, मिलेगा हर समस्या का समाधान

 

राहु के उपाय 

सबसे पहले राहु के इस वैदिक मंत्र 'ॐ रां राहवे नमः' रोज 108 बार जाप करें।

राहु के बीज बीज मन्त्र 'ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं स: राहवे नम:' का 108 बार जाप करें। 

दुर्गा सप्तशती के अर्गला, कीलक और कवच का पाठ करना लाभकारी होगा। इसके अलावे दुर्गा चालीसा का पाठ करना भी श्रेयष्कर होगा।

प्रतिदिन पक्षियों को मकई का दाना छींटकर खिलाएं।

बहते जल में एक नारियल और 11 साबुत बादाम को काले कपड़े बांधकर प्रवाहित करें।

शिवलिंग पर जलाभिषेक या दूध का अभिषेक करें।

अपने घर के नैऋत्य कोण (दक्षिण-पश्चिम का कोना) में पीले रंग के फूल लगाएं।

तामसिक भोजन और मदिरापान भूलकर भी ना करें।

इसे भी पढ़ें: वास्तु शास्त्र: घर के पूजा मंदिर में भूलकर भी न रखें ये एक चीज, वरना नहीं होगा सुख-शांति का वास

राहु का शास्त्रीय मंत्र 'ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे। ॐ ग्लौ हुं क्लीं जूं सः ज्वालय ज्वालय ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल, ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे ज्वल हं सं लं क्षं फट् स्वाहा।। इस मंत्र को विशुद्ध उच्चारण के साथ तेज स्वर में पूरी राहु की दशा के दौरान कीजिए। इसके अलावे का जाप किसी योग्य पंडित से कम से कम 41 हजार करवाएं। साथ ही इस मंत्र से हवन भी करें।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo