Breaking News
Top

पूजा के दौरान भूलकर भी ना लगाएं माथे पर बिंदी, होगा ये भरी नुकसान

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 1 2017 12:14PM IST
पूजा के दौरान भूलकर भी ना लगाएं माथे पर बिंदी, होगा ये भरी नुकसान

शास्त्रों में बिंदी को तीसरा आंख कहा गया है। महिलाओं के माथे पर बिंदी का होना उनके लिए सौभाग्यशाली माना गया है। बिंदी जहां एक तरफ महिलाओं के श्रृंगार का हिस्सा है वहीं नारी शक्ति का प्रतीक भी है।

इसे भी पढ़ें: वास्तु शास्त्र: घर के इस दिशा में रखें ये एक चीज, नौकरी और व्यापर में दिलाएगा खूब तरक्की

इसलिए महिलाएं त्योहार और पूजा-पाठ के दौरान बिंदियां लगाया करती हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस तरह आपको पूजा का फल नहीं मिलता। यह जानकर आपको हैरानी होगी कि सौभाग्य वृद्धि के लिए प्रयोग किया जाने वाला बिंदी पूजा के फल को नष्ट कर सकता है। आज हम आपको इसके पीछे के कारणों के बारे में बता रहे हैं।

आज्ञा चक्र 

जैसा कि आप जानते हैं कि बिंदी दोनों भौंहों के बीच लगाई जाती है। योग विज्ञान में इस जगह को आज्ञा चक्र कहा जाता है। यहां पर शरीर की तीन प्रमुख नाडियां इड़ा, पिंगला और सुषुम्ना मिलती है। इसलिए ऐसा कहा जाता है कि आध्यात्मिक सोच के लिए यह स्थान बेहद महत्व रखता है।

इसे भी पढ़ें: वास्तु शास्त्र: घर में है 'तुलसी' तो बरतें ये सावधानी वरना घर-परिवार कभी नहीं रहेगा खुशहाल

जब इस चक्र पर किसी भी प्रकार की रूकावट पैदा होती है तो व्यक्ति का ध्यान स्थिर नहीं हो पाता है। जिस कारण से आपको पूजा का फल नहीं मिल पता है। इसलिए कोशिश करें कि पूजा के दौरान बिंदी का प्रयोग नहीं करें। किसी उत्सव या त्योहार के दौरान बिंदी का प्रयोग करना अहितकर नहीं है। लेकिन जब पूजा पर बैठें तो इसे माथे से निकाल देना चाहिए।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
pooja ke dauraan bhoolakar bhee na lagaen maathe par bindee

-Tags:#Hindu scriptures
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo