Breaking News
Top

इस धर्म में शुरू हुआ नया साल, जानिए क्यों है खास

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 17 2017 9:04AM IST
इस धर्म में शुरू हुआ नया साल, जानिए क्यों है खास

भारत को विभिन्न धर्मों का देश कहा जाता है। यहां हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई आदि धर्मों का समावेश है।

जिस प्रकार से हिंदुओं का नववर्ष 21 मार्च से शुरू हो जाता है। ठीक उसी प्रकार से पारसी धर्म में आज यानि 16 अगस्त से नवरोज यानि नए साल की शुरुआत हो चुकी है।

ये भी पढ़ें- जानिए, सिख महिलाएं क्यों लगाती हैं नाम के बाद ''कौर'

ईरानी कैलेंडर के पहले महीने में नए वर्ष को 'नवरोज' के नाम से जाना जाता है। नव का मतलब है नया और रोज का अर्थ है दिन। इस दिन पारसी समुदाय के लोग सुबह के समय जल्‍दी उठकर तैयार हो जाते हैं और नए साल के स्‍वागत की तैयारियों में जुट जाते हैं। 

इस दिन पारसी मंदिर अगियारी में विशेष रूप से प्रार्थनाएं की जाती हैं। नवरोज पारसी समुदाय के लिए भाईचारा, करुणा और सम्मान की भावना का प्रतीक माने जाने वाला पर्व है।
 
इस दिन पारसी समुदाय के लोग एक दूसरे के लिए ईश्वर से प्रार्थना करते हैं। इस दिन पारसी लोग अपने घर पर खास साज-सजावट करते हैं। घर को अलग-अलग रंगों से सजाने के बाद सुंगध के लिए चंदन की लकड़ी भी रखते हैं।
 
 
चंदन की लकड़ी रखने के पीछे इनका मत है कि इससे उनका घर हमेशा खुशबू-खुशियों से महकता रहेगा। माना जाता है कि करीब 3 हजार साल पहले नवरोज मनाने की परंपरा शुरू हुई थी।
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
parsi religion navroz 2017 start

-Tags:#Navroj Mubarak#Parsi Religion#New Year#Navroj 2017
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo