Breaking News
Top

जानिए बुद्ध की डेढ़ सौ साल पुरानी इस मूर्ति का राज

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 29 2017 10:02AM IST
जानिए बुद्ध की डेढ़ सौ साल पुरानी इस मूर्ति का राज

बुद्ध की यह साढ़े सात फुट ऊंची मूर्ति पिछले डेढ़ सौ साल से इंग्लैंड के बर्मिंघम म्यूजियम में सैलानियों और विशेषज्ञों के आकर्षण का केंद्र रही है। 

यदि 1861 में बिहार के सुल्तानगंज से इस मूर्ति को अंग्रेज अपने साथ न ले गए होते तो आज यह बिहार के गौरवशाली इतिहास का हिस्सा होती। 

इसे भी पढ़ें: जब भरी सभा में हुआ गौतम बुद्ध का अपमान

इससे जुड़ी एक और विडंबना यह भी है कि अब इसे ‘बर्मिंघम बुद्धा’ के नाम से पुकारा जाना लगा है। यह मूर्ति गुप्त-पाल शासनकाल यानी 500 से 700 ईसवी के समय की है। 

भागलपुर के पास रेलवे निर्माण कार्य की शुरुआत में खुदाई के दौरान यह मूर्ति मिली थी। आधे क्विंटल से ज्यादा वजनी यह मूर्ति अशुद्ध तांबे से बनी है। 

इसमें गौतम बुद्ध खड़े हैं और उनका एक हाथ अभयमुद्रा में हैं। इसे बर्मिंघम के उद्योगपति सैम्यूएल थॉर्टन ने तब 200 पौंड में खरीदा था और फिर इसे बर्मिंघम म्यूजियम में रखवा दिया था।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo