Breaking News
Top

ब्रह्मचारिणी माता की पूजा ऐसे करें, पढ़ाई में कमजोर लोग ध्यान से पढ़े

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 22 2017 10:45AM IST
ब्रह्मचारिणी माता की पूजा ऐसे करें, पढ़ाई में कमजोर लोग ध्यान से पढ़े

नवरात्रि में दूसरे दिन की पूजा माता ब्रह्मचारिणी स्वरुप की होती है। ब्रह्मचारिणी का मतलब है ब्रह्म यानि ताप और चारिणी यानि आचरण करने वाली। माता ब्रह्मचारिणी की पूजा से विद्यार्थियों और साधू-संतों को विशेष लाभ प्राप्त होता है।

इसे भी पढ़ें: नवरात्रि 2017: ये है दुर्गा सप्तशती का पांच सबसे प्रभावशाली मंत्र

जो भी पढ़ाई-लिखाई करते हैं उन्हें इस दिन माता की पूजा जरूर करनी चाहिए। माता का यह रूप आराधना का प्रतीक है। भगवती का दूसरे स्वरुप माता ब्रह्मचारिणी की आराधना से सभी कष्ट दूर हो जाते हैं और अभीष्ट कामनाओं की पूर्ति होती है। 

इसे भी पढ़ें: नवरात्रि 2017: माता दुर्गा के नौ रूप

मां ब्रह्मचारिणी देवी की कृपा से सर्वसिद्धि प्राप्त होती है। इस देवी की कथा का सार यह है कि जीवन के कठिन संघर्षों में भी मन विचलित नहीं होना चाहिए। माता ब्रह्मचारिणी की पूजा इस मंत्र से करें।

 

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
navaratri 2017 mata brahmacharini ki pooja

-Tags:#Navratri 2017#Mata Brahmacharini#Durga Puja#Navaratri#Dusri Mata
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo