Top

अद्भुत ! 'महिला' बन जाता है इस मंदिर में जाने वाला हर 'पुरुष'

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 27 2017 2:49PM IST
अद्भुत ! 'महिला' बन जाता है इस मंदिर में जाने वाला हर 'पुरुष'

हिन्दू धर्म में पूजा करने से अधिक महत्व नियमानुसार पूजा करने का है। इसमें महिलाओं से जुड़े भी कुछ नियम हैं। शास्त्रों के अनुसार  मासिक धर्म होने के कारण से महिलाओं को अशुद्ध माना जाता है। किसी भी विशेष पूजा में इन्हें बैठना निषेध है। साथ ही कई ऐसे प्रसिद्ध मंदिर हैं जहां महिलाओं का प्रवेश वर्जित है।

लेकिन शायद आपने पुरुषों से जुड़े ऐसे नियम के बारे में नहीं सुना होगा। आज हम आपको ऐसे मंदिर के बारे में बता रहे हैं जहां 'पुरुष' रूप में पुरुषों का प्रवेश वर्जित है। साथ ही मंदिर के अहाते में जाने के उसे महिला बनना पड़ता है। दरअसल केरल में स्थित इस मंदिर को पुरुषों की मनोकामना पूरी करने वाला माना जाता हैं। चौंकाने वाली बात तो ये है कि इस मंदिर उन्हीं का जाना निषेध है।

इसे भी पढ़ें:साप्ताहिक राशिफल: इन राशि वालों के लिए प्रमोशन और बदलाव के संकेत

कोट्टनकुलगंरा श्रीदेवी मंदिर

यह मंदिर केरल का कोट्टनकुलगंरा श्रीदेवी मंदिर है। क्षेत्रीय लोगों में इस मंदिर की मान्यता बहुत अधिक है। हर साल यहां एक विशेष त्यौहार ‘चाम्याविलक्कू’ आयोजित किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस दौरान जो भी पुरुष सच्चे दिल से देवी की पूजा करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती है। इस मंदिर में किसी भी पुरुष का प्रवेश वर्जित है और वह केवल तभी मंदिर के अंदर जा सकता है जब पूरी तरह महिलाओं का वेश धारण करे।

इसे भी पढ़ें: स्वप्न शास्त्र: यदि सपने में दिखे ये एक चीज, समझिए जल्द बनने वाले हैं मालामाल

इसके लिए मंदिर परिसर में एक अलग कोना ही है जहां कपड़े और मेक-अप की व्यवस्था है। मंदिर में प्रवेश से पूर्व सभी पुरुष साड़ी और गहने ही नहीं पहनते, बल्कि पूरा सोलह श्रृंगार करते हैं। एक कथा के अनुसार मंदिर में स्थापित देवी की मूर्ति खुद अवतरित हुई है। काफी समय पूर्व कुछ लोगों ने यहां एक पत्थर पर नारियल फोड़ा था, लेकिन असामान्य रूप से उससे खून निकलने लगा। उसके बाद उस जगह को मंदिर का रूप दे दिया गया।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo