Hari Bhoomi Logo
रविवार, सितम्बर 24, 2017  
Breaking News
Top

ओणम 2017: क्यों मनाते हैं ''ओणम'', क्या है इसका महत्व

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 4 2017 12:12PM IST
ओणम 2017: क्यों मनाते हैं ''ओणम'', क्या है इसका महत्व

ओणम केरल का एक प्रमुख त्योहार है। इसके अलावे ओणम केरल का एक राष्ट्रीय पर्व भी है। ओणम का उत्सव सितम्बर में राजा महाबली के स्वागत में प्रति वर्ष आयोजित किया जाता है जो दस दिनों तक चलता है।

दक्षिण भारतीय युवतियां जहां अपने घर की देहरी को फूलों की रंगोली से सजाती है। वहीं महिलाएं खट्ठे-मीठे तमाम तरह के व्यंजनों को बनाकर उनका स्वाद अपने परिवार के साथ सामूहिक रूप से चखती हैं। 

इसे भी पढ़ें: अनंत चतुर्दशी 2017: ऐसे करें अनंत चतुर्दशी व्रत, दूर होंगे सभी संकट

प्रचलित कथा के अनुसार राजा महाबलि की याद में ओणम को केरल राज्य में मनाया जाता है। महाबलि अपनी प्रजा से बहुत प्यार करता था, वह गरीबों को बहुत सारा दान दिया करता था।

उसी समय भगवान विष्णु ने वामन अवतार यानि बौने का रूप धारण कर उसकी परीक्षा लेना चाही। जिसमें उन्होंने राजा बली से तीन पग जमीन दान में मांगी। उनका एक जिद्द भी था कि वे जहां-जहां पैर रखेंगे, वही जमीन उन्हें दान में चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: अनंत चतुर्दशी 2017 : आखिर क्यों मनाते हैं अनंत चतुर्दशी

राजा बली के मान जाने पर उन्होंने अपना पहले पग से पृथ्वी नापी और दूसरे पग से स्वर्ग को नापा। तीसरा पग जैसे ही उन्होंने राजा महाबलि के सिर पर रखा तो वे सीधे पाताल में चले गए। 

फिर राजा महाबलि ने वामन अवतार से साल में एक बार अपनी प्रजा से मिलने का वर मांगा। तभी से यह पर्व दक्षिण भारत में ओणम के नाम से मनाया जाता है। 

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
know why do we celebrate onam and what are its importance

-Tags:#Onam 2017#Kerala#Raja Mahabali#Vaman Avatar#God Vishnu
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo