Breaking News
रिपोर्ट में हुआ खुलासा, कानपुर सेंट्रल ने देश के सबसे गंदे रेलवे स्टेशन में किया टॅाप, यहां देखे पूरी लिस्टकिम जोंग ने दूसरी बार दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति से की मुलाकात, ट्रंप के साथ 12 जून की मुलाकात संभवशर्मनाकः दिल्ली से सटे गुरुग्राम में ऑटो चालक ने अपने साथियों के साथ मिलकर गर्भवती महिला के साथ किया गैंगरेपभारतीय महिला की मौत के बाद आयरलैंड में हटा गर्भपात से बैन, सविता की मौत के बाद जनमत संग्रह से हुआ फैसलापीएम मोदी ने किया ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन14वें दिन भी बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में 78 तो मुंबई में 86 के पार पहुंचे पेट्रोल के दामनीतीश कुमारः बैंकों की लचर कार्यप्रणाली के चलते लोगों को नहीं मिला नोटबंदी का अपेक्षित लाभपीएम मोदी ने किया दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का उद्घाटन
Top

148 साल बाद जन्माष्टमी पर बन रहा है विशेष संयोग

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 10 2017 1:35PM IST
148 साल बाद जन्माष्टमी पर बन रहा है विशेष संयोग

तकरीबन 148 साल बाद भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव पर इस वर्ष (2017) में विशेष संयोग बन रहा है। द्वापर युग में जन्में भगवान कृष्ण भाद्रपद की अष्टमी की अर्धरात्रि में रोहिणी नक्षत्र में देवकी के गर्भ से जन्में थे। लेकिन उस रात की चांदनी अन्य रातों के मुकाबले कई गुना अधिक असरदार थी। 

ये भी पढ़ें- इन 4 राशिवालों को मिलेंगे अगस्त के महीने में तरक्की और प्रमोशन के अवसर

ये भी पढ़ें- इन 4 राशिवालों को मिलेंगे अगस्त के महीने में तरक्की और प्रमोशन के अवसर

ज्योतिषों की मानें तो इस व्रष जन्माष्टमी पर 148 साल बाद विशेष संयोग तो बन ही रहा है इसके साथ ही इस बात पर भी कई श्रद्धालुओं में मत है कि जन्माष्टमी का पर्व 14 को मनाया जाएगा या 15 अगस्त के दिन।
 
लेकिन पंड़ितों के अनुसार, 14 तारीख को ही जन्माष्टमी का पर्व मनाया जाएगा, क्योंकि 15 तारीख को केवल 5 बजे संध्या के समय तक ही अष्टमी की तारीख है। 

आइए अब जानते हैं 148 साल बाद बने इस विशेष संयोग के बारे में...

माना जा रहा है कि ऐसे संयोग सदियों में कुछ ही बार आते हैं। इससे पहले वर्ष 1865 में राहु और शनि का ऐसा ही योग बना था। 
 
इस सदी में जन्माष्टमी का ये पहला योग बना है। यदि आप कोई शुभ कार्य करने की सोच रहे हैं तो जन्माष्टमी में 148 साल बाद आए इस शुभ समय से बेहतर कुछ और नहीं होगा।
 
इसके अलावा उन लोगों के बारे में भी कुछ बताया गया है। यदि 28 और 29 अगस्त की रात को किसी बच्चे का जन्म होता है तो वह शूरवीर, ज्ञानी और भगवान कृष्ण की तरह 16 कलाओं से निपुण होते हैं।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo