Breaking News
Top

जानिए आपके अंदर छिपी है कितनी बुराई

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 27 2017 9:28AM IST
जानिए आपके अंदर छिपी है कितनी बुराई

प्रत्येक मनुष्य में अच्छाई और बुराई का संगम होता है। न कोई पूरा बुरा होता है और न ही कोई पूरा अच्छा। न कोई पूर्ण है और न ही कोई संपूर्ण। हर किसी में कुछ न कुछ कमी रहती है।

ये भी पढ़ें- .... जब अश्वत्थामा के मौत की झूठी खबर से मारे गए कौरव

सवाल हमारे नजरिए का है कि हम उसमें क्या देखते हैं। एक बार की बात है कि गुरु द्रोणाचार्य ने शिक्षा पूरी होने पर कौरव और पांडव वंश के राजकुमारों दुर्योधन और युधिष्ठिर को परीक्षा के लिए बुलाया।

गुरु द्रोणाचार्य ने सबसे पहले युधिष्ठिर और दुर्योधन को एक अच्छा व्यक्ति ढूंढकर लाने को कहा। दोनों राजुकमार चल दिए। सारा दिन खाली हाथ भटकने के बाद शाम को वापिस गुरुकुल लौटकर आए।

गुरु को प्रणाम करने के बाद दुर्योधन बोला, गुरुजी मुझे तो कोई भी भला आदमी नहीं मिला, जिसे मैं आपके पास लाता। उसके बाद युधिष्ठिर ने प्रणाम किया और कहा कि गुरुदेव मैं सभी बुरे कहे जाने वाले व्यक्तियों के पास गया।

ये भी पढ़ें- युधिष्ठिर ने दिया था नारी जाती को ये श्राप, आज भी होता है सच

उनसे मिलकर मैंने पाया कि उनमें भी अनेक अच्छाइयां विद्यमान हैं। मुझे कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं मिला जो पूरी तरह से बुरा हो।

क्षमा कीजिए मैं आपके इस कार्य को नहीं कर पाया। गुरु द्रोणाचार्य कौरव और पांडवों को शस्त्र शिक्षा के साथ ही नैतिक शिक्षा भी प्रदान किया करते थे ताकि वे नेक इंसान भी बन सकें।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
know the religious story about the truth of your life

-Tags:#Life#Knowledge#Mahabharata
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo