Hari Bhoomi Logo
मंगलवार, जुलाई 25, 2017  
Breaking News
Top

जानिए किस तरह अश्वत्थामा के मौत की झूठी खबर से मारे गए कौरव

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 16 2017 10:27AM IST
जानिए किस तरह अश्वत्थामा के मौत की झूठी खबर से मारे गए कौरव

महाभारत के युद्ध के समय कुरुक्षेत्र की रणभूमि पर जब पांडवों के पास जीते के कोई भी आसार नहीं बच रहे थए तो श्रीकृष्ण ने छल से एक ऐसी खबर फैला दी की जिससे कौरवों का मनोबल टूट गया और वह रणभूमि में चारों ओर मातम ही मातम छा गया।

ये भी पढ़ें- दुर्योधन के अहंकार से आया श्रीकृष्ण को क्रोध, निकलने लगी आग की लपटें

यह कथा  धृतराष्ट्र के संतान मोह की कथा अनंत है। उसके अलावा ‘अश्वत्थामा हतो नरो वा कुंजरो‘ का संदेश आज तक गूंज रहा है।

कौरव-पांडव के गुरु द्रोणाचार्य की महाभारत के युद्ध में बहुत मुश्किल मृत्यु को आसान बनाने के लिए कृष्ण ने छल किया।

सच के बेताज बादशाह युधिष्ठिर से कहलवाया। वे कहें पता नहीं ‘अश्वत्थामा‘ नामक हाथी या मनुष्य कौन मारा गया है। द्रोणाचार्य के पुत्र का नाम ‘अश्वत्थामा‘ था। कृष्ण के झांसे में युधिष्ठिर ने आधा श्लोक बोला।

ये भी पढ़ें- श्रीमद भगवद्गीता: इन 18 अध्यायों में है आपके हर सवाल का जवाब

कृष्ण के इशारे पर कई शंख बजा दिए गए। द्रोणाचार्य ने फकत यही सुना अश्वत्थामा मर गया जो मनुष्य है। संतान मोह से पीड़ित द्रोणाचार्य के लड़ने की ताकत खत्म हो गई। उन्हें आसानी से मार डाला गया।

कृष्ण जानते थे मगर की पीठ पर हमला नहीं करना चाहिए। संतान मोह तो कोमल छाती में होता है। इस निजी अच्छाई को सामाजिक बुराई में बदलते सदियां निकली जा रही हैं।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
know the interesting facts about mahabharata battle

-Tags:#Lord Krishna#Mahabharata Battel#Ashwathama#Mahabharata
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo