Breaking News
Top

राम को लगा था रावण की हत्या का पाप, ऐसे किया प्रायश्चित

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 12 2017 12:26PM IST
राम को लगा था रावण की हत्या का पाप, ऐसे किया प्रायश्चित

भगवान श्री रामचंद्र जी चौदह वर्ष का वनवास काटकर अयोध्या लौटे थे तो उनके लौटने पर पूरे अयोध्या में दीपक जलाए गए थे।

सारी अयोध्या नगरी भगवान राम के पैरों को छूने के लिए तरस रही थी लोगों के मन में यही थी कि उनके चरण छूकर वह भी अपने जीवन पुण्य प्राप्त कर लेंगे। 

ये भी पढ़ें- रावण ने बनाई थी स्वर्ग तक पहुंचने की सीढ़ी, लेकिन नहीं पहुंच पाया

लेकिन आम लोगों में से सबसे अलग भगवान विष्णु के अवतार  श्री राम स्वयं एक ब्राह्मण औऱ शिव भक्त की हत्या के पाप से ग्रसित थे। 
 
दरअसल भगवान रामचंद्र ने लंका के राजा रावण को मारकर लंका पर विजय तो प्राप्त कर ली थी लेकिन इसके साथ ही वह एक ब्राह्मण की हत्या के पाप के भागी हो गए थे। 
 
हिंदू धर्म के ग्रंथों के अनुसार, लंका राजा रावण एक ब्राह्मण होने के साथ महान ज्ञानी भी था। शास्त्रानुसार, रावण के पिता ब्राह्मण थे लेकिन माता एक राक्षस कुल की थीं।
 
 
जैसा कि अभ तक लोग मानते आए हैं लेकिन पुत्र को उसके पिता के कुल से ही जाना जाता है ठीक उसी प्रकार से रावण को भी उसके पिता के कुल से ही माना गया। 
 
इसलिए जब राम ने रावण का वध किया तो उन्हें रावण की हत्या का पाप लगा। जिसका प्रायश्चित करने के लिए वह लंका से दूर एक स्थान पर गए थे जिसे वर्तमान में रामेश्वरम के नाम से जाना जाता है। यहां राम ने एक शिवलिंग की स्थापना कर उसकी पूजा की थी। 
 
यह शिवलिंग कोई आम शिवलिंग नहीं था बल्कि इस शिवलिंग को सीता माता ने स्वयं अपेन हाथों से बनाया था।
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
know the facts about of ravana death

-Tags:#Ramayana#Lord Rama#Ravana Death#Ravana#Lanka#Ayodhya
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo