Hari Bhoomi Logo
सोमवार, सितम्बर 25, 2017  
Breaking News
Top

मंदिर जाने से आपके शरीर के ये 7 बिंदु हो जाते हैं सक्रिय

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 21 2017 12:11PM IST
मंदिर जाने से आपके शरीर के ये 7 बिंदु हो जाते हैं सक्रिय

मंदिर जाने के सिर्फ आध्यात्मिक लाभ ही नहीं मिलता बल्कि वहां जाना स्वास्थय के लिए भी बहुत लाभदायक होता है। पुरातन काल से चले आ रहे शोध के अनुसार जब हम मंदिर का घंटा बजाते हैं, तो 7 सेंकड तक हमारे कानों में उसकी आवाज गूंजती है इस दौरान शरीर में सुकून पहुंचाने वाले 7 बिन्दु सक्रिय हो जाते हैं, इससे क्षमता का स्तर बढ़ाने में सहायता मिलती है। 

मंदिर का शांत माहौल और शंख व मंत्रोच्चारण की आवाज, भीनी-भीनी खुशबू मानसिक तौर पर हमें शांति प्रदान कर सुकून पहुंचाते हैं जिससे मानसिक तनाव दूर हो जाता है। 

अध्ययन के अनुसार मंदिर के अंदर नंगे पैर जाने से यहां की सकारात्मक ऊर्जा पैरों के जरिए हमारीे शरीर में प्रवेश करती है। 

इसे भी पढ़ें: सोमावती अमावस्या: इन 5 उपाय से दूर हो जाएगा पितृ दोष

नंगे पैर चलने के कारण पैरों में मौजूद प्रेशर प्वाइंट्स पर दवाब भी पड़ता है, जिससे हाई ब्लड प्रेशर की प्रॉब्लम कंट्रोल होती है। 

मंदिर जाने से ही नहीं बल्कि चंदन का तिलक माथे पर लगाने से भी दिमाग शांत होता है क्योंकि चंदन में शीतलता होती है मंदिर में चंदन का तिलक लगाकर कुछ देर आंख बंद करके मौन बैठने से एकाग्रता शक्ति बढ़ती है। 

हममें से ऐसे कई लोग हैं जो दिन की शुरुआत पूजा-पाठ से करते हैंं। भले ही व्यस्त जीवनशैली के चलते लोग मंदिर न जा पाते हों लेकिन लगभग सभी के घरों में भगवान का एक छोटा-सा मंदिर जरूर होता है।

घरों में मंदिर होना एक तरह की सकारात्मकता ऊर्जा का संचार करता है लेकिन मंदिर जाने के सिर्फ आध्यात्मिक लाभ ही नहीं बल्कि शारीरिक रूप से भी आपके स्वास्थय के लिए बहुत अच्छा होता है।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo