Top

कार्तिक पूर्णिमा: भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी को भी प्रिय है कार्तिक पूर्णिमा का दिन, किसी वक्त करें इस मंत्र का जाप, दूर होगी धन की कमी

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 3 2017 3:06PM IST
कार्तिक पूर्णिमा: भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी को भी प्रिय है कार्तिक पूर्णिमा का दिन, किसी वक्त करें इस मंत्र का जाप, दूर होगी धन की कमी

अन्य सभी पूर्णिमाओं की अपेक्षा कार्तिक पूर्णिमा में स्नान और दान का खास महत्व है। शास्त्रों में ऐसी मान्यता है कि यह दिन भगवान विष्णु, देवाधिदेव शंकर और माता लक्ष्मी को विशेष रूप से पसंद है।

कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान के बाद दान करने से धन-ध्यान की प्राप्ति के साथ-साथ सभी पापों से मुक्ति मिलती है। कार्तिक पूर्णिमा का दिन आर्थिक परेशानियों को दूर करने के लिए अच्छा होता है।

भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करने यह उपाय लाभकारी होता है। कार्तिक पूर्णिमा की रात में स्नान और पूजा के बाद भी कर सकते हैं। लेकिन ब्रह्म मुहूर्त में इस मंत्र का जाप करना अत्यंत लाभकारी होता है। 

इसे भी पढ़ें: कार्तिक पूर्णिमा: इस विधि से करें गंगा स्नान जन्म-जन्मांतर के पापों से मिलेगी मुक्ति

मंत्र

"पुत्रपौत्रं धनं धान्यं हस्त्यश्वादिगवेरथम् प्रजानां भवसि माता आयुष्मन्तं करोतु मे"

ध्यान रहे ये बात 

पूर्णिमा की रात या ब्रह्म मुहूर्त इस दोनों समय में से किसी भी समय कर सकते हैं। इस मंत्र का जाप शुरू करने से पहले शुद्ध जल से स्नान कर पीले या सफेद वस्त्र धारण करें। फिर भगवान विष्णु और लक्ष्मी जी के सामने किसी आसन पर पद्मासन या सुखासन में बैठ जाएं।

इसे भी पढ़ें: कार्तिक पूर्णिमा: जानिए कार्तिक पूर्णिमा का महत्व और पूजा विधि

ध्यान रहें कि जहां आप बैठे वह ईशान कोण (उत्तर और पूर्व का कोना) होना चाहिए। इसके बाद अपनी मनोकामनाओं को ध्यान में रखते हुए भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी से प्रार्थना करें। बाद में इस विशेष मंत्र का कम से कम 108 बार जाप करें। श्रद्धा पूर्वक इस मंत्र का जाप करने से कुछ ही दिनों में आपको इसका लाभ मिलने लगेगा।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo