Breaking News
Top

10 अगस्त का गुरुवार है खास, सभी अधूरी इच्छाएं करेगा पूरी

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 10 2017 8:57AM IST
10 अगस्त का गुरुवार है खास, सभी अधूरी इच्छाएं करेगा पूरी

हिन्दू पंचांग के अनुसार, वर्ष के छठे महीने को भाद्रपद कहा जाता है। भाद्रपद का अर्थ होता है 'भादों का माह' यह पूरा माह भगवान  विष्णु के कृष्ण के लिए हुए सभी अवतारों समर्पित है।

भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की तृतीया को कजली तीज (कजरी) के नाम से जाना जाता है। 

इस दिन राधा-कृष्ण के युगल जोड़ी को फूलों और पत्तियों से सजे झूले में झुलाया जाता है। कई राज्यों में इस दिन मां पार्वती की झांकी भी निकालने की पंरपरा है।
 
 
माना जाता है कि 10 जुलाई यानि आज बृहस्पतिवार के दिन यदि आप मंदिर जाकर मां पार्वती की आराधना करते हैं तो वह सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं। 
 
इसके अलावा आप बेसन के लड्डू, नारियल के लड्डू और दाल बाटी चूरमा लेकर शिव-पार्वती तो पारंपरिक रूप से भोग लगा सकते हैं। इसके बाद ये प्रसाद सभी में बांट दें। 

अन्य उपाय

  • किसी भी शिव मंदिर में जाकर मां पार्वती को लाल रंग की चुनरी के साथ सोलह श्रृंगार का सामान भेंट करें और गुलाब के फूलों की अर्पित करेँ।
  • माना जाता है कि इससे सुहागिनों का सुहाग सलामत रहता है और कुंवारी लड़कियों को मनपसंद जीवनसाथी मिलता है। 
  • यदि आप गंगाजल में केसर मिलकार शिव-पार्वती का अभिषेक करते हैं तो इससे आपके जीवन में आ रही असफलता दूर हो जाएगी।
  • भागवत पुराण के अनुसार सौभाग्य की प्राप्ति के लिए ये अभिषेक गाय के दूध से भी कर सकते हैं।  

इस मंत्र का करें जाप

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
kajri teej of 2017 worship shiva and parvati

-Tags:#Lord Shiva#Lord Brahaspati#Teej Festival 2017
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo