Breaking News
Top

कामशास्त्र: आपकी पत्नी में है ये गुण तो आपसे भाग्यशाली और कोई नहीं

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 14 2017 3:23PM IST
कामशास्त्र: आपकी पत्नी में है ये गुण तो आपसे भाग्यशाली और कोई नहीं

कामशास्त्र महर्षि वात्स्यायन द्वारा लिखी ऐसी पुस्तक है जिसे आज भी लोग बहुत अधिक तर्कसंगत मानते हैं। लोग आज कामसूत्र को किसी दूसरे नजरिए से देखते हैं। लेकिन वास्तविक ऐसी नहीं है कामसूत्र और कामशास्त्र दोनों दो विषय की पुस्तक है। जिसमें केवल कामशास्त्र से संबंधित ज्ञान नहीं बल्कि किसी महिला के गुणों के चर्चा की गई है। कामसूत्र में इस बात की जानकारी भी है कि कैसे लक्षण वाली स्त्री या पुरुष अच्छे जीवन साथी साबित होते हैं। साथ ही इस बात का भी उल्लेख है कि विवाह के लिए किन लक्षणों को जांचना अत्याधिक आवश्यक है। 

अच्छे जीवन साथी

अगर आप विवाह के लिए आगे बढ़ रहे हैं और आपके होने वाली पत्नी में ये लक्षण दिखाई देते हैं तो आपको बिना दोबारा सोचे विवाह के लिए स्वीकृति दे देनी चाहिए।

नीचे ओहदे

आजकल के लोग भले ही जाति और ओहदे को ज्यादा अहमियत नहीं देते लेकिन कामसूत्र के अनुसार पुरुष को कभी भी ऐसी स्त्री से विवाह नहीं करना चाहिए जिसका संबंध उससे कम या नीचे ओहदे या जाति से हो। उस स्त्री का परिवार भी अच्छी पहचान रखता हो और समाज में उनका मान हो।

इसे भी पढ़ें: गरुड़ पुराण: ऐसे संबंध बनाने पर व्यक्ति हो जाता है 'नपुंसक'

दुनियादारी का ज्ञान

भले ही वह स्त्री कामकाजी ना हो लेकिन उसे सामाजिक हालातों और दुनियादारी का ज्ञान अवश्य होना चाहिए। ऐसा इसलिए ताकि वह स्वयं अपने और परिवार के लिए जागरुकता ला सके।

अच्छा बर्ताव

विवाह करने के लिए स्त्री में एक गुण होना बेहद आवश्यक है और वो है अपने से नीचे और ऊंचे, दोनों ही ओहदे के लोगों को सम्मान देना, इसके अलावा अच्छा बर्ताव होना भी जरूरी है। जो स्त्री दूसरों का सम्मान करना नहीं जानती वो पति और परिवार के लिए सही नहीं होती।

धार्मिक 

धार्मिक स्त्री जो अपनी संस्कृति और परंपराओं का पालन करती हो, परिवार के लिए शुभ साबित होती है। ऐसी पत्नी अपने पति के लिए सौभाग्य का मार्ग खोलती है। सामाजिक जिम्मेदारियों को निभाने वाली स्त्री को उत्तम माना गया है।

मधुर आवाज

ऐसी स्त्री जो बचत करती है और परिवार को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने में सहयोग देती है उसे लक्ष्मी का स्वरूप माना गया है। जिसकी आवाज, देवी सरस्वती की तरह मीठी हो और जो अपने पति के लिए पूर्ण रूप से समर्पित हो, वही एक सौभाग्यशाली स्त्री होती है।

इसे भी पढ़ें: यम दिवाली: जानिए आखिर क्यों दिखाते हैं यमराज को 'दीया'

व्यवहारिक 

कामसूत्र के अनुसार जो स्त्री अपने भाई-बहनों के साथ अच्छा व्यवहार करती है, अपने बच्चों की सही परवरिश करती है और अपने संबंधों को लेकर सुरक्षात्मक रवैया रखती है, वही उत्तम स्त्री है।

प्रेम जताने वाली स्त्री

अपनी मर्यादाओं में रहकर प्रेम जताने वाली स्त्री, संभोग के दौरान पति का साथ देने वाली स्त्री एक अच्छी पत्नी कहलाती है।

अच्छी जीवनसाथी

अपने से बड़ों का सम्मान करने वाली स्त्री जो दूसरों के बारे में भी सोचती है अच्छी जीवनसाथी बनती है। उसके भीतर अहंकार की भावना नहीं होनी चाहिए, दूसरों से मिलने-जुलने में उसे कोई परेशानी ना हो।

पति को प्यार करने वाली

वह अपने पति को प्यार करने वाली तो होनी ही चाहिए लेकिन उसे पाक कला में भी निपुण होना चाहिए। भूखे और असहाय लोगों को खाना खिलाने वाली स्त्री उत्तम होती है।

गुण मिलना

वैसे एक ही स्त्री के भीतर ये सभी गुण मिलना मुश्किल है। लेकिन अगर आपको मिल जाएं तो वाकई आप बहुत भाग्यशाली हैं।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
kaam shastra ke anusar mahila ke gun

-Tags:#Kaamastra
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo