Breaking News
रिपोर्ट में हुआ खुलासा, कानपुर सेंट्रल ने देश के सबसे गंदे रेलवे स्टेशन में किया टॅाप, यहां देखे पूरी लिस्टकिम जोंग ने दूसरी बार दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति से की मुलाकात, ट्रंप के साथ 12 जून की मुलाकात संभवशर्मनाकः दिल्ली से सटे गुरुग्राम में ऑटो चालक ने अपने साथियों के साथ मिलकर गर्भवती महिला के साथ किया गैंगरेपभारतीय महिला की मौत के बाद आयरलैंड में हटा गर्भपात से बैन, सविता की मौत के बाद जनमत संग्रह से हुआ फैसलापीएम मोदी ने किया ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन14वें दिन भी बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में 78 तो मुंबई में 86 के पार पहुंचे पेट्रोल के दामनीतीश कुमारः बैंकों की लचर कार्यप्रणाली के चलते लोगों को नहीं मिला नोटबंदी का अपेक्षित लाभपीएम मोदी ने किया दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का उद्घाटन
Top

जीवितपुत्रिका व्रत आज, जानिए महिलाएं क्यों रखती हैं व्रत

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 13 2017 11:48AM IST
जीवितपुत्रिका व्रत आज, जानिए महिलाएं क्यों रखती हैं व्रत

जीवितपुत्रिका व्रत आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को किया जाता है। यह व्रत भारत में बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश तथा नेपाल में लोकप्रिय है। यह व्रत स्त्रियां अपनी संतान की लम्बी आयु के लिए रखती हैं। आज के दिन सूर्य नारायण की पूजा की जाती है। भगवान् सूर्य की  मूर्ति को भी स्नान करवा कर बाजारा और चने से बने पदार्थों का भोग लगाया जाता है। प्रसाद में भी खड़े फल ही दिए जाते हैं।

ये है कथा-

भगवान कृष्ण द्वारका पुरी  में निवास करते थे, उस समय एक ब्राह्मण भी द्वारका में निवास करता था। उसके सात पुत्र बचपन में ही मर चुके थे। अपनी इस दशा से ब्राह्मण बहुत दु:खी रहता था। एक दिन ब्राह्मण भगवान कृष्ण के पास गया और पुत्र प्राप्ति के लिए विनती की।

इसे भी पढ़ें: जिनको नहीं हो रहें बच्चे, नवरात्रि का पहला दिन उनके लिए है बेहद खास

तब भगवान कृष्ण बोले –हे ब्राह्मण ! सुनो इस बार तुम्हारे जो पुत्र होगा उसकी उम्र तीन वर्ष की है। इसकी उम्र बढ़ाने के लिए तुम सूर्य नारायण की पूजा वाले पुत्रजीविका व्रत को धारण करो। तुम्हारे पुत्र की आयु बढ़ेगी। ब्राह्मण ने वैसा ही किया। 

ब्राह्मण की विनती से प्रसन्न हो कर सूर्य ने अपने गले से एक माला ब्राह्मण पुत्र के गले में डाल दी और आगे चले गए। थोड़ी ही देर में यमराज उस ब्राह्मण पुत्र के प्राण लेने आए। यमराज को देखकर ब्राह्मण व उसकी पत्नी दोनों कृष्ण को झूठा कहने लगे। 

भगवान कृष्ण अपना अनादर जान कर तुरंत आ गए और बोले इस माला को यमराज के ऊपर डाल दो। इतना सुनते ही ब्राह्मण उस माला को उठाने लगा। यह देखकर यमराज डर से भाग गए परन्तु यमराज की छाया वहीं रह गई।

इसे भी पढ़ें: आज रात से बदल जाएगी आपकी किस्मत, बृहस्पति इन रशियों में करेंगे भ्रमण

ब्राह्मण ने उस फूल की माला को छाया के ऊपर फेंक दिया। जिसके बाद वह छाया शनि के रूप में आकर भगवान कृष्ण की प्रार्थना करने लगी। भगवान कृष्ण को उस पर दया आ गई, उन्होंने उस पर दया कर उसे पीपल के वृक्ष पर रहने के लिए कहा। तब से शनि की छाया पीपल के वृक्ष पर निवास करने लगी इस प्रकार भगवान कृष्ण ने जीवितपुत्रिका व्रत के द्वारा ब्राह्मण के पुत्र की उम्र बढ़ा दी।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
jeevitaputrika vrat aaj jaanie mahilaen kyon rakhatee hain vrat

-Tags:#Jimutavahana#Jeevitaputrika#Jyotia#Surya Narayan#Lord Krishna

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo