Breaking News
Top

धनतेरस 2017 : ऐसे भरेगी आपकी तिजोरी

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 16 2017 7:01PM IST
धनतेरस 2017 : ऐसे भरेगी आपकी तिजोरी

Dhanteras 2017 : Pooja Vidhi Aur Mantra, Eshe Bharegi Apki Tijori

धन्वन्तरी देव की पूजा शुभ मुहूर्त में करनी चाहिए। पूजा के लिए सबसे पहले स्नान आदि से निवृत होकर कुबेर देवता का ध्यान करना चाहिए।  पूजा में सबसे पहले तिल या सरसों के तेल में तेरह दीपक जलाकर तिजोरी में कुबेर की पूजा करनी चाहिए पूजन करना चाहिए। पूजा करते समय देवता कुबेर का ध्यान करना चाहिए।

फिर कुबेर देव को फूल चढाएं और ध्यान करें और कहें कि हे श्रेष्ठ विमान पर विराजमान रहने वाले देवता कुबेर का मैं ध्यान करता हूं। इसके बाद धूप, दीप, नैवेद्य से देवता कुबेर की पूजा करें। फिर इस मंत्र का जितना संभव हो जाप करें।

पूजन विधि 

शाम के समय में उत्तर दिशा की ओर कुबेर और धन्वन्तरी देव की स्थापना करें।

दोनों के सामने एक-एक मुख का घी का दीपक जलाएं।

कुबेर को सफेद मिठाई और धन्वन्तरि को पीली मिठाई चढ़ाएं।

पहले "ॐ ह्रीं कुबेराय नमः" का जाप करें।

फिर "धन्वन्तरि स्तोत्र" का पाठ करें।

धन्वान्तारी पूजा के बाद भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की पंचोपचार पूजा करनी चाहिए।

भगवान गणेश और माता लक्ष्मी के सामने मिट्टी के दीप जलाएं। धूप और दीप जलाकर उनकी पूजा करें।

भगवान गणेश और माता लक्ष्मी के चरणों में फूल चढ़ाएं और मिठाई का भोग लगाएं। 

 

इसे भी पढ़ें: धनतेरस 2017: इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा

  • मंत्र 

यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धन-धान्य अधिपतये 

धन-धान्य समृद्धि मे देहि दापय स्वाहा।

मंत्र का अर्थ है- त्रयोदशी को दीपन दान करने से मृत्यु, पाश, दण्ड, काल आदि से मुक्ति मिले और लक्ष्मी के साथ देवता यम भी प्रसन्न हों। 

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo