Breaking News
Top

छठ 2017: भूलकर भी ना करें ये गलतियां, छठी मईया हो जाएंगी नाराज

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 26 2017 11:17AM IST
छठ 2017: भूलकर भी ना करें ये गलतियां, छठी मईया हो जाएंगी नाराज

छठ पर्व पूरी आस्था और श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। छठ पर्व नहाय-खाय के साथ शुरू होता है और चौथे दिन उदीयमान सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। छठ पर्व आस्था के साथ-साथ पवित्रता का पर्व है जिसमें पूजा के सभी चीजों में पूर्ण पवित्रता का ध्यान रखा जाता है।

विशेष रूप से पूजा के इन चार दिनों में पवित्रता का पूरा ख्याल रखा जाता है। आज हम आपको कुछ ऐसी बातों के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे व्रत और पूजा के दौरान खासकर ध्यान रखना चाहिए। मान्यता है कि ऐसा नहीं करने पर छठी मईया नाराज हो जातीं हैं।

इन बातों का रखें ध्यान 

व्रत के दौरान घर में मांसाहारी खाना बिल्कुल भी नहीं रखना चाहिए और ना ही करना चाहिए। इसके अलावे व्रत के दौरान घर में धूम्रपान भी नहीं किया जाना चाहिए।

भगवान सूर्य को अर्घ्य देने से पहले ना ही जल पीना चाहिए और ना ही भोजन ग्रहण करना चाहिए।

किसी भी भोजन समग्री में प्याज और लहसून का प्रयोग नहीं होना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: छठ 2017: डूबते सूर्य को अर्घ्य आज

भगवान सूर्य को अर्घ्य देने का पात्र किसी भी कीमत पर प्लास्टिक, शीशा, स्टील और चांदी का नहीं होना चाहिए।

यदि छठी मईया से मनौती मांगी है तो उसे हर हाल में पूरा करना चाहिए नहीं तो छठी मईया नाराज हो जाएंगी।

छठी मईया के निमित्त बने प्रसाद को जूठे जगह पर नहीं रखना चाहिए। साथ ही जहाँ प्रसाद बनता हो उस स्थान को बेहद पवित्र रखना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: छठ पूजा 2017: 52 तालाबों के बीच है ये सूर्य मंदिर, छठ व्रत‌ियों की मनोकामना पूर्ण होगी ऐसे

छठ व्रती महिला या पुरुष को अपनी बोली या भाषा पर नियंत्रण रखना चाहिए। भूलकर भी किसी कि अपशब्द नहीं कहना चाहिए ऐसा करने व्रत या पूजा का फल नहीं मिलता है।

घर से लेकर बाहर तक स्वच्छता पर विशेष ध्यान देना चाहिए। पूजा के दौरान गंदे वस्त्र नहीं पहनना चाहिए।

पूजा के किसी भी वस्तु को जूठे या गंदे हाथों नहीं छूना चाहिए।

 
(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
chhath 2017 bhoolakar bhee na karen ye galatiyaan

-Tags:#Chhath Puja 2017
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo