Top

चंपा षष्ठी: व्रत करने धुल जाते हैं पूर्व जन्म के पाप ऐसे, ये है महत्व

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Nov 24 2017 11:09AM IST
चंपा षष्ठी: व्रत करने धुल जाते हैं पूर्व जन्म के पाप ऐसे, ये है महत्व

चंपा षष्ठी शुक्लपक्ष की षष्ठी तिथि को मनाई जाती है। यह त्योहार भगवान शिव के अवतार खंडोवा या खंडेराव को समर्पित है। खंडोबा को किसानों, चरवाहों और शिकारियों आदि का मुख्य देवता माना जाता है।

यह त्योहार कर्नाटक और महाराष्ट्र जैसे राज्यों का प्रमुख त्यौहार है। इस बार चंपा षष्ठी 24 नवंबर (शुक्रवार) को है। चंपा षष्ठी व्रत करने से जीवन में खुशियां बनी रहती है। ऐसी मान्यता है कि यह व्रत करने से पिछले जन्म के सारे पाप धुल जाते हैं और आगे का जीवन सुखमय हो जाता है। 

इसे भी पढ़ें: 24 नवंबर राशिफल में जानिए क्या शुभ और अशुभ होगा, राशि के अनुसार ये है शुभ रंग और अंक

ये है महत्व 

दक्षिण भारत के पुणे, महाराष्ट्र के जेजुरी में खंडोबा मंदिर में चंपा षष्टी को उत्साह से मनाया जाता है। त्योहार के छह दिनों के दौरान खंडोबा के प्रतापी भक्त उपवास करते हैं। इस दिन भक्त हल्दी पाउडर, सेब के पत्ते, फल और सब्जियां भगवान खंडोबा को अर्पित करते हैं।

इसे भी पढ़ें: सामुद्रिक शास्त्र: ऐसे 'वक्ष स्थल' वाली स्त्रियों में होते हैं ये विलक्षण गुण

ऐसा माना जाता है कि समर्पण के साथ चंपा षष्टी का जश्न मनाने वाले भक्तों पर देवता का आशीष रहता है जो उन्हें सभी बुराइयों और भय से बचाता है। अमावस्या से शुरू होने वाले सभी छह दिनों में भक्त प्रभु की आराधना करते हैं और प्रभु का प्रसाद ग्रहण करने के बाद चंपा षष्टी का अपना उपवास खत्म करते हैं।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo