Breaking News
Top

भाई दूज शुभ मुहूर्त और महत्व

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 12 2017 3:28PM IST
भाई दूज शुभ मुहूर्त और महत्व

भाई दूज का त्योहार भाई और बहन के प्यार को सुदृढ़ करने का त्यौहार है। यह त्योहार दिवाली से दो दिन बाद मनाया जाता है। हिन्दू धर्म में भाई-बहन के स्नेह-प्रतीक के रूप में दो त्योहार मनाये जाते हैं। पहला रक्षाबंधन जो कि श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है।

इसमें भाई बहन की रक्षा करने की प्रतिज्ञा करता है। दूसरा त्योहार भाई दूज का होता है इसमें बहनें भाई की लम्बी आयु की प्रार्थना करती हैं। भाई दूज का त्योहार कार्तिक मास की द्वितीया को मनाया जाता है। इस साल यह 21 अक्टूबर, दिन शनिवार को मनाया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: धनतेरस अपनाएं ये टोटके, रातों-रात बदल जाएगी किस्मत

इस दिन बहनें भाइयों के स्वस्थ तथा दीर्घायु होने की मंगल कामना करके तिलक लगाती हैं। मान्यता है कि इस दिन बहन अपने हाथ से भाई को जीमाए तो भाई की उम्र बढ़ती है और जीवन के कष्ट दूर होते हैं। इस दिन बहन के घर भोजन करने का विशेष महत्व है। बहनों को इस दिन भाई को चावल खिलाना चाहिए। बहन चचेरी, ममेरी और फुफेरी कोई भी हो सकती है। यदि कोई बहन न हो तो गाय, नदी आदि का ध्यान करके या उसके पास बैठकर भोजन कर लेना भी शुभ माना जाता है। इस दिन यमराज तथा यमुना जी के पूजन का विशेष महत्व है।

शुभ मुहूर्त

तारीख- 21 अक्टूबर 

दिन- शनिवार 

शुभ मुहूर्त- द्वितीया तिथि का आरंभ दोपहर 1:37 बजे से 

द्वितीया तिथि समाप्त 3:00 बजे 22 अक्टूबर 

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
bhai dooj 2017 bhai dooj shubh muhurt

-Tags:#Bhai Dooj#Bhau-Beej#Bhai Phonta
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo