Breaking News
महाराष्ट्र ग्राम पंचायत चुनाव परिणाम: भाजपा को 1311 सीटें, कांग्रेस-312, शिवसेना-295, एनसीपी -297 और अन्य -453महाराष्ट्र ग्राम पंचायत चुनाव परिणाम में भाजपा का बड़ा धमाका मिली 1311 सीटेंआतंकी फंडिंग केस: कश्मीरी अलगावादियों समेत 10 आरोपियों की न्यायिक हिरासत एक माह बढ़ीसीपीएम नेताओं ने वीपी हाउस से बीजेपी कार्यालय तक किया मार्चकेरल के मुख्यमंत्री पी विजयन ने सबरीमाला मंदिर का दौरा कर व्यवस्था का लिया जायजाअफगानिस्तान पुलिस ट्रेनिंग सेंटर पर फिदायीन हमला, 15 की मौत, 40 घायलसरकार का लक्ष्य दिसंबर 2018 तक 100 फीसदी टीकाकरण करने का है: पीएमयूपी सीएम योगी 26 अक्टूबर को आगरा और ताजमहल के दौरे पर जाएंगे
Top

अहोई अष्टमी: इस विधि से करें पूजा, ये है शुभ मुहूर्त

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 12 2017 11:31AM IST
अहोई अष्टमी: इस विधि से करें पूजा, ये है शुभ मुहूर्त

Ahoi Ashtami : Ish Vidhi Se Karen Pooja, Ye Hai Shoobh Muhurat

अहोई अष्टमी माताएं अपनी संतानों के लिए रखती हैं। अहोई अष्टमी के इस व्रत के द्वारा संतान के लंबी उम्र की कामना की जाती है। इस व्रत से संतानों को सुखी जीवन, स्वास्थ्य, धन और करियर में प्रगति का वरदान प्राप्त होता है।

इस साल अहोई अष्टमी व्रत 12 अक्टूबर को है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन व्रत रखने से जिन्हें संतान नहीं है उन्हें भी संतान की प्राप्ति होती है। अहोई अष्टमी के दिन इन उपायों को करने से आपको संतान से संबंधित सभी समस्या का समाधान हो सकता है।

अहोई माता की पूजा करते वक्त दूध-भात का भोग लगाएं और लाल रंग के फूल की माला या फूल अर्पित करें। इसके बाद दोनों हाथ जोड़कर और हाथ में लाल फूल से अहोई माता से अपने संतान की शिक्षा, करियर के लिए प्रार्थना करें। फिर अपने हाथों का फूल अपने संतान के हाथों में देकर इसे संभालकर रखने को कहें।

संतान की विवाह में आ रही बाधा के लिए 

1.अहोई माता को गुड़ का भोग लगाए साथ ही एक चांदी का चेन चढ़ाएं। 

2."ॐ ह्रीं उमाये नमः" 108 बार जाप करें और माता पार्वती का ध्यान करें।

3.संतान को अपने हाथों से गुड़ खिलाकर उसके गले में चेन पहनाएं।

4.उसके सर पर दाहिना हाथ रखकर आशीर्वाद दें।

इसे भी पढ़ें:यही है वो कारण, जिसकी वजह से सभी भगवानों में कुबेर के पास है सबसे ज्यादा पैसा

संतान को संतान नहीं हो पा रही हो तो 

1.अहोई माता और शिव जी को दूध भात का भोग लगाएं।

2.चांदी की 9 मोतियां लेकर लाल धागे में पिरोकर माला बनाएं।

3.अहोई माता को माला अर्पित करें और संतान को संतान प्राप्ति की प्रार्थना करें।

4.पूजा के उपरान्त अपनी संतान और उसके जीवन साथी को दूध भात खिलाएं।

यदि बेटी या बहू को संतान नहीं हो पा रहा हो इस माला को उन्हें पहनाने से संतान प्राप्ति के योग बनते हैं।

इसे भी पढ़ें: तुला राशि में बुधादित्य योग, इन 10 राशियों की चमकेगी किस्मत, 2 राशि वालों पर पड़ेगा बुरा असर

शुभ मुहूर्त

सुबह: 6:14 से 7:28 बजे तक

शाम: 6:39 बजे से शुरू

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
ahoi ashtami 2017

-Tags:#Ahoi Ashtami 2017
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo