Top

ब्रह्मचारी नहीं थे हनुमान! मजबूरी में करनी पड़ी थी शादी

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Aug 29 2017 12:53PM IST
ब्रह्मचारी नहीं थे हनुमान! मजबूरी में करनी पड़ी थी शादी

शास्त्रों में रामभक्त के रूप में हनुमानजी की एक विशेष पहचान है। लेकिन इस पहचान के अलावे हनुमानजी एक बाल ब्रह्मचारी के रूप में भी पूजे जाते हैं। लोग यही जानते हैं कि हनुमानजी ने कभी विवाह नहीं किया और जीवनभर एक ब्रह्मचारी भक्त के रूप में भगवान राम की सेवा करते रहे। 

कुछ शास्त्रों के अनुसार हनुमान जी के अविवाहित होने की बात पूरी तरह से सच नहीं है। भले ही लोग एक ब्रह्मचारी के रूप में उनकी पूजा करते हैं लेकिन शास्त्रों के अनुसार उन्होंने तीन शादियां की थी। 

इसे भी पढ़ें: दुश्मनों पर विजय और कर्ज से मुक्ति दिलाता है ये हनुमान मंत्र

पराशर संहिता में हनुमान जी की पहली पत्नी सुवर्चला का उल्लेख मिलता है। सुर्वचला सूर्य की पुत्री हैं। प्रसंग के अनुसार हनुमानजी सूर्य के शिष्य थे और सूर्य को उन्हें नौ विद्याओं का ज्ञान देना था। हनुमानजी ने पांच विद्या आसानी से सीख ली लेकिन बाकी चार विद्या एक विवाहित ही सीख सकता था।

इसे भी पढ़ें: घर में हनुमान जी की तस्वीर लगाते वक्त न करें ये गलतियां

बाकी चार विद्याओं को सीखने के लिए सूर्यदेव ने हनुमान को विवाह के लिए मना लिया और उनकी पत्नी के रूप में अपनी पुत्री सुवर्चला का चुनाव किया जो हमेशा तपस्या में लीन रहती थी। 

पउम चरित के अनुसार जब रावण और वरूण देव के बीच युद्ध हुआ तो, वरूण देव की तरफ से हनुमान ने रावण से युद्ध किया और रावण के सभी पुत्रों को बंदी बना लिया। युद्ध में हारने के बाद रावण ने अपनी दुहिता अनंगकुसुमा का विवाह हनुमान से कर दिया।

रावण और वरुण देव के बीच हुए इस युद्ध में हनुमान वरुण देव के प्रतिनिधि के रूप में लड़े और उन्होंने वरुण देव को विजय दिलाई। इस विजय से खुश होकर वरूण देव ने हनुमान जी का विवाह अपनी पुत्री सत्यवती से कर दिया।

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
according to the scriptures god hanuman had to make three marriages

-Tags:#Hanuman#Parasar Sanhita#Suryadev#Hanuman
मुख्य खबरें
Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo